• Sat. Oct 1st, 2022

    ‘लंदन में हूं सर्जन, डेढ़ लाख डॉलर की है कमाई’, बता कर लॉकडाउन में बेरोजगार युवक ने युवतियों को ठगा

    Sep 2, 2020

    Jabalpur. लॉकडाउन में बेरोजगार होने के बाद एक व्यक्ति ने अपने खुराफाती दिमाग से दर्जनों महिलाओं को चूना लगाया है। जबलपुर की युवती की शिकायत पर जबलपुर साइबर सेल ने एक युवक को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार युवक खुद को मेट्रोमोनियल साइट लंदन में सर्जन बताया था। साइबर सेल के अनुसार वह ज्यादातार मराठी युवतियों को टारगेट करता था। मेट्रोमोनियल साइट पर दोस्ती के बाद वह उनसे शादी की बात करता था। बातचीत और अंग्रेजी की वजह से लोगों को यकीन हो जाता था कि वह एनआरआई है और जरूरत के नाम पर रुपयों की ठगी कर लेता था।

    जबलपुर की लड़की से ढाई लाख लिए

    आरोपी वैभव सतीश कपले की शिकायत साइबर सेल में 3 दिन पहले एक युवती ने की थी। युवती ने आरोप लगाया था कि मेट्रोमोनियल साइट पर युवक ने दोस्ती की। फिर हम दोनों शादी के लिए राजी हो गए। शादी के लिए राजी होने के बाद दोनों में बातचीत शुरू हो गई है। इस बीच आरोपी कपले ने कुछ पैसों की जरूरत बता कर पीड़ित युवती से ढाई लाख रुपये ठग लिए। उसके बाद युवती से उसने बातचीत बंद कर दी।

    शिकायत पर एसपी ने गठित की टीम

    वहीं, युवती की शिकायत पर जबलपुर साइबर सेल ने तुरंत मामले की जांच के लिए एक टीम गठित कर दी। 72 घंटे के अंदर ही पुलिस की टीम ने आरोपी वैभव सतीश कपले को नासिक से गिरफ्तार कर लिया है। उसके बाद उससे पूछताछ की जा रही है। एसपी का कहना है कि अभी तक 5 शिकायत इसके खिलाफ आई है। पुलिस ने त्वरित कार्रवाई की है, इसलिए और महिलाएं फंसने से बच गई हैं।

    लंदन में हूं सर्जन

    फ्रॉड वैभव सतीश कपले ने मेट्रोमोनियल साइट पर खुद को लंदन में सर्जन बताता था। साथ ही कहता था कि महीने की कमाई डेढ़ लाख डॉलर है। इसके साथ ही शानदार तरीके से लड़कियों के सामने अंग्रेजी झाड़ता था। इसकी चिकनी चुपड़ी बातों में युवतियां फंस जाती थी और शादी के लिए हामी भर देती थीं। जबलपुर की युवती को भी इसने ऐसे ही फंसाया था। साथ ही उससे ढाई लाख रुपये भी ठग लिए।

    लॉकडाउन में हो गया था बेरोजगार

    जबलपुर साइबर सेल के एसपी अंकित शुक्ला ने बताया कि आरोपी लॉकडाउन में बेरोजगार हो गया था। उसके पास कोई काम नहीं था। इसलिए उसने मेट्रोमोनियल साइट पर अपना प्रोफाइल क्रिएट किया। फिर मराठी युवतियों से दोस्ती करना शुरू किया। इसने बहुत सारी महिलाओं से इसी तरह फ्रॉड किया है। यह महिलाओं को लंदन से एक डिप्लोमा की डिग्री दिखाता था।

    एनआरआई के रूप में करता था प्रोजेक्ट

    आरोपी वैभव सतीश कपले महिलाओं के सामने खुद एनआरआई के रूप में प्रोजेक्ट करता था। एसपी अंकित शुक्ला ने कहा कि इसी झांसे में आकर महिलाएं इन्हें पैसे दिया करती थीं। अभी तक 5 लोगों ने इसके खिलाफ शिकायत की है। पूछताछ के आधार पर जांच की जा रही है। जल्दी कार्रवाई होने की वजह से कुछ युवतियां बच गई हैं।