• Wed. Oct 5th, 2022

    पुणे से प्रयागराज जा रही श्रमिक स्पेशल ट्रेन में मजदूर की मौत, दूर से देखती रही पुलिस

    May 12, 2020

    प्रवासी मजदूरों की वापसी के लिए भारतीय रेलवे श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चला रही हैं। पुणे से प्रयागराज जा रही श्रमिक स्पेशल ट्रेन एक मजदूर की मौत हो गई है। सोमवार को ट्रेन जब सतना रेलवे स्टेशन पर रुकी तो हड़कंप मच गया। ट्रेन से मजदूर के शव को उतारने के लिए भी कोई तैयार नहीं था। सतना रेलवे स्ट्रेशन से ट्रेन छूटने के बाद उसे पश्चिम मध्य रेलवे के मझगंवा स्टेशन पर रोका गया। जहां जीआरपी, आरपीएफ, जिला पुलिस बल और चिकित्सा दल की मौजूदगी में शव को ट्रेन से उतारा गया।

    ट्रेन में मजदूर की मौत से हजारों मजदूरों में दहशत का माहौल था। पुलिस कोरोना संक्रमण के डर से ट्रेन की बोगी में प्रवेश नहीं कर रही थी। मीडिया में जो तस्वीरें सामने आई हैं, उसमें साफ दिख रहा है कि दूसरे मजदूर ही अपने साथी का शव उतार रहे हैं और पुलिस प्लेटफॉर्म पर खड़ी होकर देख रही है।

    घंटों खड़ी रही ट्रेन

    ट्रेन मझगंवा स्टेशन पर करीब 3 घंटे तक खड़ी रही। इसके बाद मझगंवा से प्रयागराज के लिए ट्रेन को रवाना किया गया। मृत यात्री की पहचान अखिलेश सिंह राणा पुत्र राम वसामन राणा के रूप में की गई है। वह यूपी के गोंडा जिले का रहने वाला था। ट्रेन में उसके 2 साथी भी सवार थे।

    रेलकर्मियों की लापरवाही

    यात्री की मौत सतना रेलवे स्टेशन से पहले ही हो गई थी। इसकी सूचना रेलवे कर्मियों को थी, उसके बावजूद ट्रेन को सतना से रवाना कर दिया। मीडिया से बात करते हुए स्टेशन प्रबंधक ने कहा कि जब ट्रेन उंचेहरा पहुंची तब उन्हें यात्री की मौत के बारे में जानकारी मिली। जब जोन स्तर पर इस घटना की सूचना पहुंची तो रेल प्रबंधन हरकत में आया। जिसके बाद मझगंवा से सतना जीआरपीएफ के प्रभारी ने सहायक उप निरीक्षक सुरेश उपाध्याय को पुलिस बल के साथ रवाना किया। मझगंवा थाना प्रभारी ओपी सिंह की मदद से जीआरपी ने पंचनामा किया।

    2 साथी भी उतरे

    मृतक यात्री के साथ उसके 2 परिचित जय प्रकाश ठाकुर और त्रिभुवन सिंह भी ट्रेन से उतरे। मृतक के परिजनों को सूचना दे दी गई है। जीआरपी का कहना है कि मृतक से साथ उतरे परिचित ने बताया कि ट्रेन में सवार होते वक्त ही अखिलेश की तबीयत खराब थी। कटनी के बाद अचानक बिगड़ने लगी और सतना पहुंचने से पहले मौत हो गई। शव को जिला अस्पताल ले जाने के लिए भी मझगांव में काफी देर इंतजार करना पड़ा।