• Fri. Oct 7th, 2022

    सावन से पहले ‘प्रकट’ हुए भोलेनाथ, हर-हर महादेव के लगे जयकारे

    Jun 23, 2020

    Bhopal: मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में खुदाई के दौरान एक भगवान शिव की विशालकाय प्रतिमा मिली है। प्रतिमा इतनी भारी थी कि जमीन के अंदर से उसे जेसीबी की मदद से निकालनी पड़ी। मौके पर मौजूद लोगों ने तुरंत प्रतिमा को साफ कर भगवान शिव से आशीर्वाद लेने लगे। उसके बाद इसकी सूचना पुरातत्व विभाग को दी गई है। देखने से भगवान की शिव की मूर्ति काफी पुरानी नजर आ रही है।

    दरअसल, पुरासम्पदा का गढ़ रहे सोहागपुर में नर्मदा जल को घर-घर तक पहुंचाने के लिए हो रही खुदाई में पाषाण कालीन दुर्लभ शिव प्रतिमा मिली है। प्रतिमा इतनी वजनी है कि उसे जमीन से बाहर निकालने के लिए के जेसीबी की मदद ली गई। प्रतिमा निकलने की खबर मिलते ही लोग बड़ी संख्या में जमा हो गए और भगवान के जयकारे लगाने लगे। सूचना मिलते ही प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुचे ओर प्रतिमा की जांच करने के लिए पुरातत्व विभाग की टीम को सूचना भेजी गई है।

    अनुविभागीय दंडाधिकारी वंदना जाट ने बताया कि नर्मदा जल की पाइप लाइन डालने के लिए शहर में खुदाई की जा रही थी। इसी बीच जमीन के अंदर कुछ दिखाई दिया। मौजूदा स्टॉफ ने बेहद सावधानी के साथ छोटे औजारों से मूर्ति को बाहर निकाला। इसके बाद जेसीबी की मदद से शिव प्रतिमा को गड्ढे से बाहर निकाल लिया गया है। मूर्ति को तहसील कार्यालय ले जाने का प्रयास किया गया लेकिन वह बहुत भारी है।

    वजनी होने की वजह से मूर्ति को मंदिर परिसर में सुरक्षित रखा गया है। पुरातत्व विभाग को सूचना भेजी गई है। उनकी टीम आकर मूर्ति की जांच कर रिपोर्ट देगी।

    वाणासुर की नगरी है सोहागपुर

    जानकारों के मुताबिक सोहागपुर का पौराणिक नाम शोण्डितपुर था। यहां का राजा वाणासुर रहा है। इसका उल्लेख पौराणिक कथाओं और ग्रंथों में किया गया है। सोहागपुर की पलकमती नदी से भी पूर्व में कई प्राचीन प्रतिमाएं निकली हैं। यहां होशंगाबाद रोड पर स्थित प्राचीन मंदिर में सभी मूर्तियां सुरक्षित हैं।