• Sun. Oct 2nd, 2022

    विश्वविख्यात श्रावणी मेले पर सस्पेंस, सावन में भोले बाबा पर जल चढ़ा पाएंगे शिव भक्त?

    Jun 15, 2020

    Deoghar: विश्वविख्यात श्रावणी मेले लगने की संभावना लगभग अब खत्म हो गई है. दरअसल मेले लगने को करीब 21 दिन बचे है लेकिन अभी तक केंद्र सरकार ने इस बाबत कोई फैसला नहीं लिया है. विगत 30 मई को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने एक लॉकडाउन खोलने ( अनलॉक-1 ) को लेकर एक गाइडलाइन जारी की थी.

    गाइडलाइन में इस बात का जिक्र था कि फेज 3 के तहत किसी भी धार्मिक मेले के आयोजन के लिए मंत्रालय कोरोना की स्थिति को देख कर ही जल्द कोई निर्णय लेगी. लेकिन इस बाबत अभी तक कोई निर्णय लिया गया है. मंत्रालय जबतक कोई निर्णय नहीं लेती है, तब-तक राज्य सरकार भी मामले में कोई कदम नहीं उठा सकती है.

    अगर श्रावणी मेला की बात करें, तो इसकी तैयारी करीब दो माह पहले से शुरू हो जाती है लेकिन अब केवल बचे 21 दिनों में तैयारी पूरा होना एक तरह से असंभव है. इसे देख मेले की लगने की संभावना धुमिल हो गई है. वहीं राज्यों में बढ़ते कोरोना मरीजों को देख यह बात और पुख्ता होते दिख रही है.

    कोरोना मरीजों की संख्या देख केंद्र नहीं ले रहा फैसला

    केंद्रीय गृह मंत्रालय ने 30 मई को जो गाइडलाइन जारी की थी, उसमें किसी तरह के धार्मिक आयोजन को लेकर विशेष जिक्र था. गाइडलाइन में कहा गया था कि लॉकडाउन में किसी भी तरह की छुट फेज वाइज दिया जाएगा. पहले और दूसरे फेज में जहां धार्मिक स्थलों, होटलों, शैक्षणिक संस्थानों को खोलने का जिक्र था.

    वहीं तीसरे फेज में सिनेमा हॉल, स्वीमिंग पुल, धार्मिक कार्यों और किसी तरह के धार्मिक आयोजन का जिक्र था. तीसरे फेज को लेकर मंत्रालय का स्पष्ट निर्देश था कि स्थिति देख मंत्रालय कोई निर्णय लेगी.