• Tue. Sep 27th, 2022

    सावधान! शेर के बाद अब कुत्तों को भी हो रहा कोरोना, ऐसे करें लक्षणों की पहचान

    May 17, 2021

    नई दिल्ली: शेर में कोरोन संक्रमण के लक्षण मिलने के बाद अब पालतू जावरी कुत्तों में भी संक्रमण के लक्षण दिखने लगे हैं। हालांकि उनमें पाया जाने वाला वायरस कोविड-19 नहीं है। बल्कि उनमें कैनाइन कोरोना वायरस होता है। मनुष्यों की तरह उनकी सांस नहीं फूलती है और न ही बुखार आता है। उनमें केवल डायरिया की समस्या होती है और शरीर कमजोर हो जाता है। कुत्तों में इसके संक्रमण का असर सात से आठ दिन के अंदर रहता है।

    कोविड-19 की तरह घातक नहीं है ये वायरस
    उत्तर प्रदेश के चुन्नीगंज पशुचिकित्सालय के प्रभारी डॉ. सुधीर श्रीवास्तव ने बताया कि कुत्तों में पाया जाने वाला कोरोना वायरस कोविड-19 की तरह घातक नहीं है, लेकिन दूसरे कुत्तों में उनसे संक्रमण का खतरा रहता है। संक्रमित होने के बाद कुत्तों का पेट खराब हो जाता है, खाना छोड़ देते हैं और कमजोरी आ जाती है।

    कुत्तों को लगाया जाने वाला टीका कई साल पहले बन चुका है
    कुत्तो में पाए जाने वाले कोरोना वायरस का टीका कई साल पहले बन चुका है। इसकी हर वर्ष 30 दिन के अंदर दो डोज लगाई जाती है। जब आपका पिल्ला ढाई हफ्ते का होता है, तब आप उसे वैक्सीन की पहली डोज लगवा सकते हैं। साल में दो टीके ही लगते हैं और अगले वर्ष फिर दो टीके लगवाने पड़ते हैं।

    पांच फीसदी कुत्तों में होता संक्रमण
    डॉक्टर के मुताबिक कैनाइन कोरोना का संक्रमण करीब पांच फीसद कुत्तों में देखने को मिलता है। इनमें से कुछ की मौत भी हो जाती है। यह सभी तरह की नस्लों को प्रभावित करता है।