• Sat. Dec 3rd, 2022

    डरने की जरूरत नहीं! एक फीसदी से भी कम आबादी भारत में कोरोना से संक्रमित

    Jun 11, 2020

    गुरुवार को कोरोना को लेकर एक अच्छी खबर आई है. देश के 83 जिलों में 0.73 फीसदी आबादी ही कोरोना से संक्रमित हुई है. इनमें सबसे अच्छी बात ये है कि भारत में कोविड-19 मरीजों की मृत्यु दर दुनिया के अन्य देशों से बहुत कम है.

     

    भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR ) के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने सिरो सर्वे के नतीजों की जानकारी देते हुए कहा कि भारत में प्रति लाख आबादी के हिसाब से कोविड-19 मरीजों की संख्या और मृत्यु की दर दुनिया के अन्य देशों से सबसे कम है. गौरतलब है कि यह आंकड़ा 30 अप्रैल तक की है।

    यहां है सबसे खतरा

    ICMR के महानिदेशक ने कहा कि हमारी बड़ी आबादी अब भी खतरे में है, ऐसे में संक्रमण तेजी से फैल सकता है. उन्होंने बताया कि ग्रामीण इलाकों के मुकाबले शहरी क्षेत्रों में 1.09 और शहरी झुग्गी बस्तियों में 1.89 गुना ज्यादा खतरा है.

     

    ICMR के महानिदेशक ने कहा कि शहरों के स्लम एरियाज में संक्रमण का खतरा सबसे ज्यादा है. इसके लिए राज्य सरकारों को स्थानीय स्तर पर लॉकडाउन लागू करना होगा. उन्होंने कहा कि कंटेनमेंट जोन में संक्रमण का स्तर बहुत ज्यादा पाया गया है.

     

    26, 400 लोगों पर सर्वे

    उन्होंने बताया कि सर्वे के लिए देश के 83 जिलों के 28.595 घरों का दौरा किया गया. इस दौरान 26.400 लोगों के खून के नमूने लिए गए. सर्वे में पाया गया कि इन जिलों में 0.73 फीसदी लोगों में ही संक्रमण के सबूत मिले. उन्होंने कहा कि ऐसा सिर्फ लॉकडाउन के कारण हो सका है, जिससे वायरस के संक्रमण के तेज फैलाव पर रोक लगी.

     

    क्या है सिरो सर्वे?

    ICMR के महानिदेशक डॉ. भार्गव ने सिरो सर्वे के बारे में बताते हुए कहा कि इससे कई महत्वपूर्ण बातों का पता चलता है. उन्होंने कह कि सिरो सर्वे में आम आदमी के एंटीबॉडी की जांच की जाती है, इस जांच के लिए लोगों का ब्लड सैंपल लेकर ऐटीबॉडीज की जांच होती है. अगर कोई व्यक्ति पॉजिटिव है तो इसका मतलब है कि वो सार्स-कोव-2 से संक्रमित हुआ था.