• Tue. Sep 20th, 2022

    कोरोना को लेकर बड़ी खबर, सिर्फ 10 राज्यों में 86 फीसदी केस, रिकवरी दर 63% के पार

    Jul 14, 2020

    New Delhi: देश भर में कोरोना का कहर जारी है, हालांकि स्वास्थ्य मंत्रालय अब भी मानने को तैयार नहीं है. मंत्रालय का कहना है कि भारत उन गिने-चुने देशों में शामिल है जहां प्रति 10 लाख कोरोना के न्यूनतम मामले सामने आए हैं.

    स्वास्थ्य मंत्रालाय ने कोरोना वायरस को लेकर एक ग्राफ जारी कर विस्तृत जानकारी दी है. स्वास्तय मंत्राल. के अनुसार, भारत में 86 फीसदी केस सिर्फ 10 राज्यों तक सीमित है. स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, हर राज्य में कोरोना एक रफ्तार में नहीं बढ़ रहा है.

    महाराष्ट्र और तमिलनाडु में कोरोना के आधे केस

    स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, कोरोना का केस सिर्फ 10 राज्यों में 85 फीसदी है. कोरोना से महाराष्ट्र और तमिलनाडु देश के सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य हैं. इन दोनों राज्यों में देश के आधे केस हैं. वहीं शेष 36 फीसदी केस कर्नाटक, दिल्ली, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश, प. बंगाल और गुजरात में है. महाराष्ट्र और तमिलनाडु में 1,54, 134 केस है.

    इन राज्यों की स्थिति बेहतर

    केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, बिहार, मध्य प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, केरल उन राज्यों में शामिल नहीं है, जहां कोरोना से संक्रमित मरीजों की लगातार इजाफा हो रहा है. स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, सिर्फ 10 ही ऐसे राज्य हैं, जहां कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है.

    रिकवरी दर 63 फीसदी के पार

    स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, 14 जुलाइ को दश भर में कोरोना के 3,11,565 एक्टिव केस है, वहीं. 5,71, 459 मरीज स्वस्थ होकर घर लौट गए हैं. इससे साफ है कि कोरोना के जितने मरीज अस्पताल में भर्ती हो रहे हैं, उससे ज्यादा मरीज स्वस्थ होकर घर लौट रहे हैं.

    दुनिया में बेहतर है भारत

    स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, अगर आबादी के हिसाब से देखा जाए तो भारत की स्थिति दुनिया के अन्य देशों से बेहतर है. भारत में प्रति 10 लाख पर 657 कोरोना केस है.

    यही नहीं , भारत में कोरोना केस की ग्रोथ रेट में भी भारी गिरावट आ रही है. स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, मार्च में डेली ग्रोथ रेट 31 प्रतिशत था, जो मई में 9 प्रतिशत हो गया और मई खत्म होते-होते यह 4.82 फीसदी तक आ गिरा. स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, 12 जुलाई तक यह 3.24 प्रतिशत तक पहुंच गया है.