• Wed. Sep 21st, 2022

    ‘चुलबुल पांडे’ पर गिरी गाज, BMW का चालान पड़ महंगा?

    Jun 28, 2020

    Bhopal: सूबेदार भागवत पांडे उर्फ चुलबुल पांडे, सोशल मीडिया पर एक्टिव रहने वाले लोग इस नाम से बखूबी परचित है। भागवत पांडे जब लॉकडाउन में लाइव आते थे, तो उन्हें सुनने के लिए हजारों लोग मौजूद हो जाते थे। उनके वीडियो पर करोड़ों में व्यूज और लाखों में लाइक्स आते थे। कोरोना महामारी के बीच जब एमपी में लोग अपने घरों में कैद थे, तब चुलबुल पांडे सोशल मीडिया पर छा गए थे। पुलिसिंग के निराले अंदाज की वजह से वह फेसबुक पर उनकी वीडियो की खूब चर्चा होती थी। चुलबुल पांडे इस चक्कर में फेसबुक पर घंटों लाइव रहते थे। कई बार अधिकारियों ने कहा भी था कि वीडियो का व्यू बढ़ाने के लिए ऐसा करते हैं।

    चुलबुल पांडे पर कार्रवाई

    अब सीधी एसपी ने सूबेदार भागवत प्रसाद पांडे उर्फ चुलबुल पांडे पर कार्रवाई की है। उन्हें सीधी ट्रैफिक थाना से पुलिस लाइन सीधी अटैच कर दिया है। उनकी जगह डीडी सिंह को अस्थाई रूप से थाना प्रभारी बनाया गया है। भागवत पांडे को 26 जून को लाइन अटैच किया गया है। हालांकि यह किसी को समझ में नहीं आ रहा है कि ये कार्रवाई क्यों हुई है।

    BMW लेकर आया आफत?

    पुलिस महकमे में चर्चा है कि एक बीएमडब्ल्यू कार का चालान काटना भागवत पांडे का महंगा पड़ गया है। बताया जा रहा है कि सूबेदार भागवत पांडे उर्फ चुलबुल पांडे ने पिछले दिनों एक बीएमडब्ल्यू सवार का 500 रुपये का चालान काटा था। कार सवार मोबाइल फोन पर बात करते हुए आ रहा था। उसके बाद वीडियो को भागवत पांडे ने सोशल मीडिया पर डाला था। ऐसे में कहा जा रहा है कि यहीं वीडियो उनके लिए आफत लेकर आया है। हालांकि आधिकारिक रूप से ऐसी कोई जानकारी नहीं दी गई है कि कार्रवाई क्यों हुई।

    क्या है वीडियो में

    दरअसल, सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में साफ दिख रहा है कि एक बीएमडब्ल्यू सवार फोन पर बात करते हुए ड्राइव कर रहा था। इस बीच ट्रैफिक पुलिस का जवान उसकी गाड़ी रोक अधिकारी के पास चलने को कहता है। अधिकारी भागवत पांडे उर्फ चुलबुल पांडे ही थे। वह दलील भी दे रहा है कि अर्जेंट फोन था, इसलिए रिसीव कर लिया। लेकिन जवान ने एक नहीं सुनी थी।

    लॉकडाउन में ‘हीरो’ बने थे भागवत पांडे

    लॉकडाउन के दौरान भागवत पांडे अचानक से सुर्खियों में आए थे। वह ठेठ देसी अंदाज में घर से बाहर निकल रहे लोगों को रोकते थे। गांवों में जाकर वीडियो बनाना। बिना मुंह ढके लोगों को रोक कर उनसे बात करना। साथ ही उसका वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर डालाना। सोशल मीडिया यूजर्स को भी चुलबुल पांडे का वीडियो खूब पसंद आता था। सोशल मीडिया पर मिलती प्रसिद्धि को देखते हुए, चुलबुल पांडे पुलिस की वर्दी में कई वीडियो दिन भर में बनाने लगे थे।

    कई बार मिली थी चेतावनी

    सूत्रों की मानें तो यातायात प्रभारी भागवत पांडे को सोशल मीडिया की लत लग गई थी और लगातार 4 से 6 घंटे तक सोशल मीडिया में एक्टिव रहते थे। वरिष्ठ अधिकारियों को यह नागवार गुजरती थी। कई बार वरिष्ठ अधिकारियों ने इसको लेकर भागवत पांडे को हिदायत दी थी लेकिन सोशल मीडिया का चस्का ले चुके सूबेदार साहब को अधिकारियों के निर्देश को लगातार नजरअंदाज करना भी एक मुख्य वजह मानी जा रही है।

    वापसी की मांग

    चुलबुल पांडे को लाइन अटैच किए जाने के बाद उनके फैंस को निराशा हाथ लगी है। ऐसे में सीधी जिले के युवा फिर से उनकी वापसी की मांग कर रहे हैं। युवाओं का कहना है कि भागवत प्रसाद पांडे को फिर से उसी थाने में ससम्मान पदस्थ कर दिया जाए।