• Tue. Oct 4th, 2022

    कोरोना काल में पॉजिटिविटी फैला रहा 4 बुजुर्गों का गाया गाना ‘हारेगा कोरोना’, आप भी सुनें

    Apr 25, 2021

    भारत में कोरोना महामारी (Coronavirus Pandemic) की दूसरी लहर (Second Wave) ने हर किसी को परेशान कर के रखा है. पिछले साल के मुकाबले इस साल कोरोना ने भारत में ज्यादा उतपात मचाया हुआ है. हर दिन कोरोना (Corona) के लाखों मामले सामने आ रहे हैं. कई लोगों की मौत भी हो रही है. अच्छी बात ये भी है कि ठीक होने वालों की संख्या भी बढ़ रही है. मगर इस कोरोना काल में हर कोई हताश और निराश है. सब अपनों की चिंता कर रहे हैं, डरे हुए हैं कि कहीं उन्हें ना कोरोना अपनी चपेट में ले ले. देश के अस्पतालों में ऑक्सीजन (Oxygen) की कमी होने लग रही है. इतनी सारी मुसीबतों के बीच 4 बुजुर्ग गायकों ने अनोखे तरीके से लोगों को हताशा से बाहर निकालने की ठानी है. वो अपने गाय हुए गाने से लोगों के अंदर सकारात्मकता भरने की कोशिश कर रहे हैं जिससे लोग कोरोना से डर कर नहीं, डट कर लड़ाई लड़ सकें.

    वायरल हो रहा है ‘हारेगा कोरोना’
    इन 4 बुजुर्गों का नाम है शर्मा बंधु (Sharma Bandhu). ये 4 भाई अपनी गायकी के लिए मशहूर हैं. कोरोना काल में इन्होंने अपनी गायकी से ही लोगों के अंदर पॉजिटिविटी (Positivity) भरने का निर्णय लिया है और ये अपने वायरल सॉन्ग (Sharma Bandhu Viral Song) से लोगों को हिम्मत दे रहे हैं. शर्मा बंधुओं का कोरोना गीत (Corona Song) ‘हारेगा कोरोना’ (Harega Corona) इन दोनों सोशल मीडिया पर काफी ट्रेंड कर रहा है. इस गाने में ये चारों बुजुर्ग भाई (Elderly Brothers) लोगों को ये विश्वास दिला रहे हैं कि हम कोरोना को जरूर हराएंगे. गाने को बोल ही नहीं, इनकी आवाज भी इतनी मधुर है कि ये लोगों सुकून दे रही है. शर्मा बंधुओं का गाना ‘हारेगा कोरोना’ यूट्यूब पर भी छाया हुआ है. वैसे तो ये गाना साल 2020 में लॉकडाउन के दौरान का है मगर अब जब कोरोना की लहर पहले से ज्यादा विकराल रूप ले चुकी है, ऐसे में गाना अभी भी लोगों का मनोबल बढ़ा रहा है.

    कौन हैं शर्मा बंधु?
    शर्मा बंधु एक म्यूजिकल ग्रुप है जो चार भाइयों ने मिलकर बनाया है. ये चारों भाई भारतीय शास्त्रीय संगीत के जानकार हैं और भक्ति और आध्यात्मिक गीतों के गायक हैं. ये चारों साथ में गाने गाते हैं जो बेहद फेमस होते हैं. शर्मा बंधु म्यूजिकल ग्रुप के सदस्यों के नाम हैं- पंडित गोपाल शर्मा, पंडित कौशलेंद्र शर्मा, पंडित राघवेंद्र शर्मा और पंडित सुखदेव शर्मा. इनका जन्म उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में पंडित ज्योति प्रसाद और पंडित मुंशी राम के संगीत घराने में हुआ था. 1974 में रिलीज हुई शबाना आजमी (Shabana Azmi) की फिल्म ‘परिणय’ में शर्मा बंधुओं ने “सुरज की गर्मी से जलते हुए तन को” (Sooraj Ki Garmi Se Jalte Huye Tan Ko) गाना गाया था जो इनके सबसे लोकप्रिय गीतों में से एक है.