• Thu. Sep 22nd, 2022

    सिंधिया बनेंगे केंद्र में मंत्री? बोले केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल- यहां मांग पर कोई मंत्री नहीं बनता

    May 8, 2020

    बीजेपी में शामिल होने के बाद से ही ज्योतिरादित्य सिंधिया को लेकर कई अटकलें हैं। बीजेपी की सदस्यता ग्रहण करते ही पार्टी ने उन्हें राज्यसभा का टिकट थमा दिया था। हालांकि कोरोना की वजह से अभी चुनाव संपन्न नहीं हुआ है। इधर सिंधिया समर्थक मंत्री गोविंद सिंह राजपूत की चाहत से एमपी की सियासत फिर से गरमा गई है। शिवराज कैबिनेट में खाद्य आपूर्ति मंत्री गोविंद सिंह राजपूत की चाहत है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया केंद्र में मंत्री बनें।

    राजपूत की चाहत पर कांग्रेस अब हमलावर हो गई है। वहीं, केंद्रीय पर्यटन मंत्री प्रह्लाद पटेल की भी इस पर प्रतिक्रिया आई है। प्रह्लाद पटेल गुरुवार को दमोह से सड़क मार्ग से दिल्ली जा रहे थे, इस दौरान वह ग्वालियर में रुके। ज्योतिरादित्य सिंधिया भी ग्वालियर से ही आते हैं। पटेल ने यहां पत्रकारों से बात भी की। साथ ही ज्योतिरादित्य सिंधिया को केंद्र में मंत्री बनाए जाने की मांग पर भी प्रह्लाद पटेल ने जवाब दिया।

    यहां मांग से नहीं बनते मंत्री

    केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल ने कहा कि बीजेपी में मांग से लोग मंत्री नहीं बनते हैं, ये हमारी परंपरा नहीं है। उन्होंने कहा कि उन्हें मंत्री बनाए जाने की मांग हाईकमान तक पहुंच गई होगी और वो ही तय करेंगे। इससे ज्यादा मैं कुछ नहीं कह सकता हूं।

    मंत्री बनाए जाने के सवाल पर चुप

    वहीं, जब प्रह्लाद पटेल से पूछा गया कि ज्योतिरादित्य सिंधिया को केंद्र में मंत्री बनाए जाना चाहिए, इस प्रह्लाद पटेल ने चुप्पी साध ली। उन्होंने कहा कि अभी केंद्र और प्रदेश की सरकार का फोकस कोरोना से जंग पर है, इसके लिए हम जरूरी कदम उठा रहे हैं।

    सिंधिया ने की शिवराज की तारीफ

    वहीं, मध्यप्रदेश में गुरुवार को श्रम कानूनों में बदलाव किए गए हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इसे लेकर ट्विटर पर लिखा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश के हमारे लाखों श्रमिक भाइयों के हित में श्रम सुधारों का ऐलान करते हुए जो कल्याणकारी कदम उठाए हैं, इससे निश्चित रूप से प्रदेश में रोजगार और उद्योग के अवरस बढ़ेगे।

    शिवराज सिंह चौहान ने भी जवाब देते हुए कहा कि सिंधिया जी, हम साथ मिलकर मध्यप्रदेश को फिर से देश का एक अग्रणी राज्य बनाएंगे। श्रम कानूनों में सकारात्मक बदलाव से प्रदेश की अर्थव्यवस्था को मजबूती देने में मदद मिलेगी।