• Sat. Dec 3rd, 2022

    Vizag gas tragedy: त्रासदी क्या होती है कोई भोपाल से पूछो, 36 साल पुरानी तस्वीर देख रो देंगे आप

    May 7, 2020

    आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में गैस लीक के बाद 8 लोगों की जान चली गई है। सैकड़ों लोगों का इलाज अस्पताल में चल रहा है। विशाखापट्टनम की घटना ने एक बार फिर से भोपाल गैस त्रासदी की यादें ताजा कर दी हैं। यह दुनिया के औद्योगिक इतिहास की सबसे बड़ी दुर्घटना थी। 3 दिसंबर 1984 को आधी रात के बाद यूनियन कार्बाइड फैक्ट्री से निकली जहरीली गैस ने हजारों लोगों की जान ले ली थी। सरकारी आंकड़ों के अनुसार 5 हजार लोगों की जान गई थी, लेकिन इस हादसे में 15,000 से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी।

    5 लाख लोग हुए थे प्रभावित
    यूनियन कार्बाइड कंपनी से मिथाइल आइसो साइनाइट गैस लीक हुई थी। भोपाल गैस त्रासदी में करीब 5 लाख लोग प्रभावित हुए थे। स्थानीय लोग आज भी बताते हैं कि 1 घंटे के अंदर ही हजारों लोगों की मौत हो गई थी। रात को सोए लोग अगले दिन की सुबह नहीं देख पाए। चारों तरफ सिर्फ चीख-पुकार मची हुई थी।


    आज भी है असर
    भोपाल गैस त्रासदी के 36 साल हो गए हैं। हर साल घटना की वर्षी पर लोगों की यादें ताजा हो जाती हैं। आज भी प्रभावित इलाकों में जहरीली गैस का असर है। गैस पीड़ित लोगों की दूसरी और तीसरी पीढ़ी किसी न किसी बीमारी की चपेट में है। ज्यादातर बच्चे आज भी मानसिक रूप से विकलांग पैदा लेते हैं।

    अभी भी संघर्ष कर रहे हैं भोपाल गैस पीड़ित
    आज भी भोपाल गैस त्रासदी की चपेट में आए लोगों का दर्द कम नहीं हुआ है। पीड़ितों को आज तक सही मुआवजा नहीं मिला है, इन्हें उचित मुआवजा दिलाने के लिए कई संगठन संघर्ष कर रहे हैं। भोपाल गैस त्रासदी पीड़ितों के लिए बने अस्पताल में इनका इलाज भी सही से नहीं होता है।

    कैसे हुआ था हादसा
    जानकारी के अनुसार इस फैक्ट्री से 40 टन गैस का रिसाव हुआ था। बताया जाता है कि फैक्ट्री के टैंक नंबर 610 में जहरीली गैस मिथाइल आइसो साइनाइट में पानी मिल गया था। इसके बाद रासायनिक प्रक्रिया हुई और टैंक पर दबाव बना। प्रेशर की वजह से टैंक खुल गया और गैस लीक हो गई।

    भाग गया था वॉरेन एंडरसन
    कंपनी का मुख्य प्रबंध अधिकारी वॉरेन एंडरसन हादसे के बाद भारत से अमेरिका भाग गया था। आरोप यह भी लगे थे कि इसे भगाने में भोपाल के तत्कालीन कलेक्टर और एसपी की भूमिका भी थी।

    सबसे डरावनी थी यह तस्वीर
    भोपाल गैस त्रासदी की यह तस्वीर सबसे डरावनी है। यह तस्वीर गैस त्रासदी की भयावहता को बयां करती है, जिसे देख लोगों की रुह आज भी कांप जाती है।