• Sat. Oct 1st, 2022

    औरंगाबाद में मालगाड़ी से कटे 19 मजदूर, 16 की मौत, मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख देगी शिवराज सरकार

    May 8, 2020

    महाराष्ट्र के औरंगाबाद में बड़ा हादसा हो गया है। थकान के बाद ट्रैक पर सो रहे 19 प्रवासी मजदूर मालगाड़ी से कट गए हैं, जिनमें से 16 लोगों की मौत हो गई है। सभी मजदूर मध्यप्रदेश के रहने वाले हैं। सभी जलगांव स्थित आयरन फैक्ट्री में काम करते थे। गुरुवार को औरंगाबाद से प्रवासी मजदूरों के लिए कई ट्रेनें खुली थीं, लेकिन ये लोग नहीं पकड़ पाए थे। ये सभी मजदूर मध्य प्रदेश को शहडोल के रहने वाले थे।

    इस घटना के बाद मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रवासी मजदूरों से अपील की है कि वे कि वो चलते हुए अपने घरों की तरफ न निकलें। उन्होंने कहा कि हमने आप सब को घर लाने हेतु उचित व्यवस्थाएं की है और ये प्रक्रिया ज़ोरों से चल रही है। हर राज्य के साथ बात कर, रेलेवे के साथ मिल कर ये पूरा मिशन पूरा किया जा रहा है।

    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस बाबत ट्वीट करके जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि इस हादसे की रेलमंत्री से जांच कराने की मांग की है। इसके अलावे प्रदेश सरकार विशेष विमान से उच्चधिकारियों की एक टीम औरंगाबाद भेज रही है। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने औरंगबाद रेल हादसे में मारे गए मध्य प्रदेश के प्रवासी मजदूरों के परिजनों को 5-5 लाख रुपये मुआवजा देने का ऐलान किया है। इसके अलावे सभी घायलों का इलाज कराने की भी बात कही है।

    सीएम ने क्या कहा

    औरंगाबाद से अपने घर लौट रहे कई श्रमिक भाइयों के ट्रेन हादसे में आकस्मिक निधन का दुखद समाचार मिला। ईश्वर से दिवंगत आत्माओं की शांति और परिजनों को यह गहन दुख सहन करने की शक्ति देने तथा घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं। विनम्र श्रद्धांजलि!

    औरंगाबाद में हुए रेल हादसे से हृदय पर ऐसा कुठाराघात हुआ है की मैं उसे शब्दों में व्यक्त नहीं कर सकता! संवेदना से मन भर जाता है… मैंने रेल मंत्री पीयूष गोयल से बात की है और उनसे त्वरित जांच और उचित व्यवस्था की मांग की है। मैं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से भी लगातार बात कर रहा हूं और घायल श्रमिकों के उपचार में कोई भी कमी न रहे उसकी व्यवस्था कर रहा हूं।

    उसके अलावा प्रदेश सरकार की तरफ से हर एक मृतक श्रमिक के परिजनों को पांच लाख दिए जाएंगे, और घायलों के इलाज की पूरी व्यवस्था की जाएगी। मैं विशेष विमान से उच्च अधिकारियों की एक टीम भेज रहा हूं, जो वहां पर मृतकों के अंतिम संस्कार की व्यवस्था करेगी और घायलों को हर संभव मदद करेगी।

    विशेष विमान से मंत्री मीना सिंह के साथ राज्य कंट्रोल रूम के अपर मुख्य सचिव आईसीपी केशरी भी जाएंगे। उड्डयन मंत्रालय से बात कर इस विशेष विमान के उड़ान की अनुमति ली जा चूकी है।

    प्रदेश के पंजीकृत श्रमिकों को SMS के द्वारा भी संदेश भेजे जा रहे हैं। अब तक तकरीबन 80000 श्रमिकों को वापस लाया जा चुका है।