• Thu. Oct 6th, 2022

    लॉकडाउन 4.0 : 18 मई से किन-किन चीजों में मिल सकती है छूट, यहां देखें लिस्ट

    May 15, 2020

    कोरोना वायरस के कारण लागू राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन का अगला चरण सोमवार से शुरू हो जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा के अनुरूप इस चरण में लोगों को ज्यादा रियायत और लचीलापन देखने को मिलेगा। अधिकारियों ने बताया कि बंद के इस चौथे चरण में यात्री रेल सेवा और घरेलू यात्री उड़ानों को क्रमिक रूप से शुरू किये जाने के साथ ही राज्यों और केंद्र शासित क्षेत्रों को अपने यहां हॉटस्पॉट को परिभाषित करने का अधिकार दिया जाएगा।

    अब सिर्फ कंटेनमेंट एरिया तक ही सीमित होगी सख्ती

    जानकारी के अनुसार, कहीं भी स्कूल, कॉलेज, मॉल और सिनेमा घरों को खोलने की इजाजत नहीं होगी लेकिन कंटेनमेंट एरियाज को छोड़कर सैलून, नाई की दुकानें और चश्मों की दुकानों को रेड जोन में खोलने की मंजूरी दी जा सकती है। साथ ही ई. कॉमर्स कंपनियों को कंटेनमेंट जोन को छोड़कर हर जगह गैर जरूरी सामानों की डिलिवरी की अनुमति मिल सकती है।

    गृह मंत्रालय जारी करेगा गाइडलाइंस

    जानकारी के अनुसार, लॉकडाउन 4 में पहले के चरणों की अपेक्षा लोगों को ज्यादा छूट मिलेगी और इस दौरान ग्रीन जोन को पूरी तरह खोल दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि ऑरेंज जोन में बेहद कम बंदिश होगी जबकि रेड जोन के कंटेनमेंट एरियाज में ही सख्त पाबंदियां होंगी।

    रेलवे और घरेलू उड़ानों पर धीरे-धीरे छूट

    रेलवे और घरेलू उड़ानों के क्रमिक और आवश्यकता आधारित संचालन को अगले हफ्ते से मंजूरी मिलने की संभावना है लेकिन दोनों ही सेक्टरों के पूरी तरह खुलने की तत्काल संभावना नहीं है। अधिकारी ने कहा कि बिहार, तमिलनाडु, कर्नाटक उन राज्यों में शामिल थे जो नहीं चाहते हैं कि ट्रेन और हवाई सेवाओं को पूरी तरह बहाल किया जाए, कम से कम मई के अंत तक तो बिलकुल नहीं।

    बहाल हो सकती है ऑटो रिक्शा और टैक्सी सर्विस

    भारतीय रेलवे दिल्ली से 15 स्थानों के लिये पहले ही विशेष ट्रेनों का संचालन शुरू कर चुका है और इसके अलावा बंद की वजह से देश के अलग-अलग इलाकों में फंसे प्रवासी कामगारों को उनके गंतव्यों तक पहुंचाने के लिए सैकड़ों श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का भी संचालन किया जा रहा है। स्थानीय ट्रेन, बस और मेट्रो सेवा का रेड जोन के नॉन-कंटेनमेंट एरियाज क्षेत्रों में सीमित क्षमता में परिचालन शुरू हो सकता है। रेड जोन में ऑटो और टैक्सियों को भी यात्रियों की सीमित संख्या के साथ संचालन की इजाजत मिल सकती है।