• Wed. Sep 21st, 2022

    ‘संविधान के रक्षक’ धर्मगुरु केशवानंद भारती का निधन, पीएम मोदी ने जताया शोक

    Sep 6, 2020

    नई दिल्ली. संत केशवानन्द भारती का आज सुबह निधन हो गया। वे केरल के कासागोड़ जिले के रहने वाले थे। संत केशनानंद के निधन पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शोक प्रकट करते हुए ट्वीट किया है। केशवानंद भारती इडनीर मठ के प्रमुख थे। बताया जा रहा है कि अगले हफ़्ते उनकी हार्ट वाल्व रिप्लेसमेंट सर्जरी होनी थी, लेकिन रविवार सुबह अचानक उनका निधन हो गया।

    इसलिए याद किए जाएंगे केशवानंद

    केशवानंद भारती वही शख्स थे जिनकी याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने संविधान की आधारभूत संरचना को अक्षुण्ण रखने का फैसला दिया था। केशवानंद की याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि संविधान में बदलाव तो किया जा सकता है लेकिन उसकी आधारभूत संरचना के साथ छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है।

    केशवानन्द भारती ने केरल के भूमिहीन किसानों को जमीन बांटने के लिए राज्य सरकार की लाए गए भूमि सुधार कानूनों को चुनौती देने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। उस याचिका में केरल भूमि सुधार कानून 1963 को संविधान की नौवीं अनुसूची में शामिल किए जाने संबंधी 29वें संविधान संशोधन को चुनौती दी गई थी. इस मुकदमे में 24 अप्रैल 1973 को सुप्रीम कोर्ट ने 7:6 के बहुमत के आधार पर फैसला सुनाया था, जिसके तहत संविधान संशोधन के संसद के अधिकारों को सीमित किया गया।

    पीएम मोदी प्रकट किया शोक

    संत केशवानंद के निधन पर पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा कि पूज्य केशवानंद भारती जी को हम सामुदायिक सेवा के लिए उनके योगदान और दलितों को सशक्त बनाने के लिए हमेशा याद रखेंगे। उन्हें भारत की समृद्ध संस्कृति और हमारे महान संविधान से गहरा लगाव था। वह पीढ़ियों को प्रेरित करते रहेंगे। ओम शांति।