• Sat. Sep 24th, 2022

    जगदानंद सिंह ने बिना नाम लिए तेज प्रताप यादव को दी चेतावनी, कहा- ‘लक्ष्मण रेखा पार न करें’

    Aug 20, 2021

    आरजेडी (RJD Crisis) में प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ( Jagdanand Singh ) और तेज प्रताप यादव ( Tej Pratap Yadav ) के बीच लड़ाई अब पूरी तरह से खुलकर सामने आ गई है. दोनों नेता हमलावर रुख अपनाए हुए हैं. तेज प्रताप यादव ने गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेस में प्रदेश अध्यक्ष के खिलाफ बगावत का बिगुल फूंकते हुए सीधा आरोप लगाया था कि जगदानंद सिंह मेरे और तेजस्वी के बीच दरार पैदा करना चाहते हैं. अगर पिताजी उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं करते हैं तो वह इस मामले को कोर्ट लेकर जाएंगे. अब जगदानंद ने तेज प्रताप पर पलटवार करते हुए उन्हें संयम बरतने की नसीहत दी है.

    जगदानंद ने तेज प्रताप का नाम लिए बिना कहा कि व्यक्ति अपनी मर्यादा का स्वयं रक्षक होता है, कोई लक्षमण रेखा पार ना करें. उन्होंने आगे कहा, “जो भी बात हो रही वो कोई बंद कमरे में तो नहीं हो रही तो राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद जी को सब कुछ पता है. मैंने ये नहीं कहा WHO IS TEJ PRATAP. मैंने कहा कि पार्टी के संवैधानिक ढांचे में नहीं है वो. वो कोर कमिटी के मेंबर नहीं है.”

    दरअसल, इस विवाद की शुरुआत जगदानंद सिंह द्वारा छात्र राजद के प्रदेश अध्यक्ष आकाश यादव को तत्काल प्रभाव से हटाकर नए छात्र नेता गगन कुमार को छात्र राजद के प्रदेश अध्यक्ष घोषित करने से हुई. आकाश यादव को तेज प्रताप का करीबी माना जाता है. आकाश यादव को हटाने पर तेज प्रताप ने जगदानंद सिंह के खिलाफ खुलकर मोर्चा खोल दिया. यह लड़ाई दिनोंदिन बढ़ती जा रही है.

    अब लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप ने जगदानंद पर पलटवार किया था. तेजप्रताप ने कहा था कि पार्टी विरोधी चाह रहे हैं कि समाज में, घर में बदनामी हो. आकाश यादव पिताजी के साथ काम कर चुके हैं, सीनियर हैं. बिना किसी को नोटिस हटा दिया गया. आपने कह दिया हू इज तेज प्रताप यादव लेकिन लालू प्रसाद जी से जाकर पूछिए हू इज तेज प्रताप यादव. उन्होंने यह भी कहा कि कल तक तो ये भी बोल सकते हैं कि हू इज़ लालू यादव, हू इज़ तेजस्वी यादव, हू इज़ मीसा यादव. इनका मकसद है कि किस तरह से कृष्ण और अर्जुन की जोड़ी तोड़ी जाए.