• Mon. Sep 26th, 2022

    फौजी बेटे के लिए दुल्हन ढूंढ रही थी मां, खबर मिली- देश के लिए शहीद हो गया लाल

    Jun 17, 2020

    Ranchi: भारत-चीन सीमा पर सोमवार रात चीनी सैनिकों के साथ हुए हिंसक झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए. इन शहीद जवानों में झारखंड के भी दो जवान वीरगति को प्राप्त हुए हैं.

    गौरतलब है कि पूर्वी लद्दाख में सोमवार रात गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में भारतीय सेना के एक कर्नल सहित 20 सैनिक शहीद हो गए. शहीद हुए 20 जवानों में झारखंड के एक और जवान का नाम जुड़ गया है.

    बहरागोड़ा के रहने वाले थे गणेश हांसदा

    शहीद होने वाले गणेश हांसदा पूर्वी सिंहभूम जिले के बहरागोड़ा के रहने वाले थे. उन्होंने महज 23 वर्ष की आयु में वतन की खातिर खुद को कुर्हान कर दिया. गणेश के पिता सुबदा हांसदा किसान हैं और मां गृहणी है. बड़े भाई गांव में ही रहकर खेती-बाड़ी करते हैं.

    बेटे के लिए दुल्हन ढूंद रही थी मां

    23 वर्षिय गणेश हांसदा की अभी शादी नहीं हुई थी. उनके लिए उनकी मां दुल्हन की तलाश कर रही थी. बताया जा रहा है कि मां अपने छोटे बेटे की शादी के लिए काफी उत्साहित थी, लेकिन उससे पहले ही दुखद खबर मिल गई.

    साहेबगंज का लाल भी शहीद

    साहेबगंज जिले के दीहारी गांव के रहने वाले कुंदन कांत ओझा भी इस हिंसक झड़प में शहीद हो गए हैं. 26 साल के शहीद कुंदन ओझा 17 दिन पहले ही पिता बने थे लेकिन बेटी की चेहरा तक नहीं देख पाए. कुंदन 2011 में बिहार रेजिमेंट में भर्ती हुए थे. जानकारी के अनुसार, तीन साल पहले उनकी शादी हुई थी और 5 महीने पहले घर आए थे. 15 दिन पहले उनसे बात हुई थी और मंगलवार को परिवार वालों को दुखद खबर मिली.