• Fri. Oct 7th, 2022

    Rajya Sabha Election: ज्योतिरादित्य सिंधिया, दिग्विजय सिंह और सुमेर सिंह सोलंकी की जीत

    Jun 19, 2020

    Bhopal: एमपी में राज्यसभा चुनाव के लिए सुबह 9 बजे वोटिंग शुरू हो गई थी। अब चुनाव के नतीजे आ गए हैं। नतीजे बीजेपी के पक्ष में रही है। बीजेपी के दोनों उम्मीदवारों ने चुनाव में जीत हासिल की है। कुल 206 विधायकों ने इस चुनाव में अपने मत का प्रयोग किया है। वहीं, कांग्रेस के सिर्फ एक उम्मीदवार को चुनाव में जीत मिली है। फूल सिंह बरैया चुनाव हार गए हैं। चुनाव नतीजों के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया पहली बार राज्यसभा जाएंगे। कांग्रेस छोड़ कर आने के बाद बीजेपी ने उन्हें राज्यसभा का टिकट दिया था।

    राज्यसभा चुनाव के नतीजे आ गए हैं। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने अपनी सटीक रणनीति से कांग्रेस को चारों खाने चित कर दिया है। कांग्रेस के 22 विधायकों के इस्तीफे के बाद प्रदेश में समीकरण बिगड़ गया था। उसके बाद से ही साफ हो गया था कि राज्यसभा की 3 में से 2 सीटें बीजेपी के खाते में जाएगी। राज्यसभा चुनाव जीतने के लिए एमपी में 1 उम्मीदवार को 52 वोट चाहिए थे। बीजेपी के पास अपने 107 विधायक हैं, ऐसे में दोनों उम्मीदवारों की जीत पहले से सुनिश्चित थी।

    कांग्रेस से दिग्विजय सिंह जाएंगे राज्यसभा

    कांग्रेस ने भी राज्यसभा में 2 उम्मीदवार उतारे थे। वरीयता वाली सीट से दिग्विजय सिंह थे और दूसरी सीट पर फूल सिंह बरैया थे। विधायकों की संख्या कम होने की वजह से सिर्फ दिग्विजय सिंह की ही जीत हुई है। दिग्विजय सिंह दूसरी बार राज्य सभा जा रहे हैं। वर्तमान चुनाव के लिए उनकी सीट ही खाली हुई थी।

    बीजेपी का कब्जा रहा बरकरार

    दरअसल, अप्रैल में 2019 में एमपी में राज्यसभा की 3 सीटें खाली हुई थीं। 3 में से 2 सीटें बीजेपी की थीं। लेकिन कमलनाथ की सरकार रहते हुए, बीजेपी के लिए दोनों सीट निकलना मुश्किल था। बीजेपी की ओर से प्रभात झा और सत्यनारायण जटिया की सीट खाली हुई थी। वहीं, कांग्रेस की तरफ से दिग्विजय सिंह की सीट खाली हुई थी। बीजेपी ने इस बार अपने दोनों ही उम्मीदवारों को रिपीट नहीं किया है।

    पहली बार सोलंकी जा रहे हैं राज्यसभा

    राज्यसभा के लिए सुमेर सिंह सोलंकी का नाम एमपी के लोगों के लिए चौंकाने वाला था। सोलंकी पेशे से प्रोफेसर हैं। जब उनके नाम की घोषणा हुई थी, तब वह सरकारी कॉलेज में कार्यरत थे। नाम की घोषणा के बाद उन्होंने सरकारी सेवा से इस्तीफा दे दिया। उसके बाद नामांकन किया। सुमेर सिंह सोलंकी पूर्व सांसद माकन सिंह के भतीजे हैं। साथ ही वह संघ से जुड़े रहे हैं। साथ ही सोलंकी अनूसूचित जाति से आते हैं।