• Sat. Oct 1st, 2022

    UN में बोले पीएम मोदी, कोरोना पर भारत का रिकवरी रेट सबसे बेहतर

    Jul 17, 2020

    पीएम मोदी संयुक्त राष्ट्र की आर्थिक एवं सामाजिक परिषद को संबोधित किया. पिछले महीने UNSC में मिली जीत के बाद संयुक्त राष्ट्र में पीएम मोदी का यह पहला संबोधन है. पीएम मोदी वीडियो कॉन्फेंसिंग के माध्यम से सुरक्षा परिषद को संबोधित किया. गौरतलब है कि पीएम मोदी संयुक्त राष्ट्र के75वीं सालगिरह के मौके पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने संबोधित किया.

    पीएम मोदी के संबोधन की मुख्य बातें…

    • चाहे भूकंप, चक्रवात, इबोला संकट या कोई अन्य प्राकृतिक या मानव निर्मित संकट हो, भारत ने तेजी और एकजुटता के साथ जवाब दिया है. कोरोना के खिलाफ हमारी संयुक्त लड़ाई में हमने 150 से अधिक देशों में चिकित्सा और अन्य सहायता उपलब्ध करवाई है.
    • जब भारत एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में अपने 75साल पूरे करेगा तब हमारा ‘हाउसिंग फॉर ऑल’ कार्यक्रम 2022 तक प्रत्येक भारतीय के सिर पर एक सुरक्षित छत सुनिश्चित करेगा.
    • हमारे 600,000 गांवों में पूर्ण स्वच्छता प्राप्त करके हमने पिछले साल राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाई.
    • संयुक्त राष्ट्र मूल रूप से द्वितीय विश्व युद्ध के उपद्रवों से पैदा हुआ था. आज महामारी के प्रकोप ने इसके पुनर्जन्म और सुधार के नए अवसर प्रदान किए हैं.
    • दूसरे विश्वयुद्ध के बाद दुनिया बदल गई है, भारत हर क्षेत्र में आगे बढ़ रहा है.
    • हमारा लक्ष्य सबका साथ सबका विकास और सबका विश्वास है. हमने आत्मनिर्भर अभियान चलाया.
    • कोरोना की लड़ाई को हमने जनआंदोलन बनाया है. कोरोना के मामले में भारत का रिकवरी रेट सबसे बेहतर है.
    • कोरोना से लड़ाई के लिए आर्थिक पैकेज लाए. भारत ने शार्क कोविड फंड बनाया.
    • भारत में हमनें कई योजनाएं चलाईं. सबको घर देने के लिए आवास योजना लेकर आए.
    • भारत ने आपदाओं से तेजी से निपटने के लिए कई योजनाओं पर काम किया.
    • भारत सरकार ने 6 साल में 40 करोड़ बैंक अकाउंट खोले हैं.
    • हम गरीबों के खाते में सीधे पैसे पहुंचा रहे हैं. जरूरतमंद लोगों के खाते में सीधे मदद पहुंचाई है.
    • हम एजेंडा 2030 को पूरा करने के लिए प्रयासरत हैं. विकास के रास्ते पर आगे बढ़ते हुए हम प्रकृति के बारे में भी सोच रहे हैं.
    • पीएम मोदी ने कहा कि हमें चुनौतियों से मिलकर लड़ना होगा. हम विकासशील देशों की भी मदद कर रहे हैं.