• Mon. Sep 26th, 2022

    MP कांग्रेस को उपचुनाव से पहले बड़ा झटका, शिवराज की मौजूदगी में BJP में शामिल हुए 6 नेता

    May 18, 2020

    मध्यप्रदेश में उपचुनाव की तारीखों के ऐलान से पहले सियासी हलचल तेज हो गई है। एक-दूसरे को मात देने की तैयारी में बीजेपी और कांग्रेस जुट गई। कोरोना महामारी के बीच मध्यप्रदेश में बीजेपी ने कांग्रेस को फिर एक बड़ झटका दिया है। कांग्रेस को झटका देने में ज्योतिरादित्य सिंधिया के करीबी और जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट ने अहम भूमिका निभाई है।

    सिंधिया के करीबी और जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट सांवेर क्षेत्र से आते हैं। आगर-मालवा के इलाके में बड़े नेता के रूप में उनकी गिनती होती है। उन्होंने सोमवार को कांग्रेस को बड़ा झटका दिया है। सांवेर से कांग्रेस के 6 बड़े नेताओं को तुलसी ने बीजेपी में एंट्री दिलवाई है। सभी नेताओं ने भोपाल में बीजेपी की सदस्यता ग्रहण की है।

    ये लोग हुए बीजेपी में शामिल

    सांवेर से भरत सिंह चौहान, दिलीप चौधरी, नगजीराम ठाकुर, हुकम सिंह सांखला, ओम सेठ औ हुकम सिंह पटेल ने बीजेपी की सदस्यता ग्रहण की है। इस दौरान भोपाल स्थित बीजेपी मुख्यालय में सीएम शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा भी मौजूद रहे। सभी नेता मंत्री तुलसी सिलावट के साथ बीजेपी ऑफिस में पहुंचे थे।

     

    अभी और होंगे शामिल

    माना जा रहा है कि उपचुनाव से पहले सिंधिया खेमा कांग्रेस को और बड़ा झटका दे सकत है। बीजेपी नेता दावा कर रहे हैं कि अभी कांग्रेस के और बड़े नेता बीजेपी में शामिल होंगे। कयास लगाए जा रहे हैं कि कांग्रेस एक और बड़ी टूट ग्वालियर चंबल संभाग में होगी। क्योंकि उसी इलाके से ज्योतिरादित्य सिंधिया आते हैं। सिंधिया भी लगातार उन क्षेत्र के नेताओं के संपर्क में हैं।

    24 सीट पर है उपचुनाव

    मध्यप्रदेश में उपचुनाव 24 सीटों पर होनी है। 24 में से 22 सीट सिंधिया समर्थकों के हैं। 16 सीट तो ज्योतिरादित्य सिंधिया के गढ़ ग्वालियर-चंबल में हैं। सिंधिया लगातार सोशल मीडिया और फोन के जरिए इन क्षेत्रों में एक्टिव हैं। 2 दिन पहले उपचुनाव को लेकर आयोजित मीटिंग में भी ज्योतिरादित्य सिंधिया शामिल हुए थे।

    कौन हैं तुलसी

    इस बार कांग्रेस को झटका जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट ने दिया है। 6 कांग्रेसी दिग्गजों को बीजेपी में लाने में तुलसी ने अहम भूमिका निभाई है। तुलसी ज्योतिरादित्य सिंधिया के सबसे भरोसेमंद लोगों में से एक हैं। सांवेर से वह 4 बार विधायक रहे हैं। कमलनाथ की सरकार में भी तुलसी सिलावट स्वास्थ्य मंत्री थे।